सब्सक्राइब करें

सोसाइटी

home care isolation

घर पर ही रहकर कोरोना का कैसे हो इलाज, क्या खाएं, क्या नहीं, करें इलाज

17 April 2021

कोरोना वायरस की दूसरी लहर में मरीजों की संख्या में एकाएक बढ़ोत्तरी हो रही है। मरीजों की संख्या में हो रही बढ़ोत्तरी की वजह से अब स्वास्थ्य सेवाएं पूरी तरह से ध्वस्त हो चुकी है। ऐसे में अब मरीजों संख्या में बढ़ोत्तरी होने की वजह से उनकी सेहत का ख्याल रख पाना स्वास्थ्य विभाग के बस में नहीं है। मरीजों की संख्या अचानक बहुत ज्यादा बढ़ने की वजह से कई अस्पतालों में बेड की भी कमी हो गई है। ऐसे में कोरोना संक्रमित मरीजों के सामने सबसे ज्यादा समस्या इलाज की है। ऐसे में अब जिस मरीज में बीमारी के हल्के या मध्यम श्रेणी के लक्षण दिख रहे हैं उन्हें होम आइसोलेशन की सलाह दी जाती है और वे घर पर ही रहकर अपना इलाज कराएं। 

rajendra ji

आने वाले हैं शिकारी मेरे गांव में...गीत वाले गीतकार राजेंद्र नहीं रहे

15 April 2021

जीवन-मरण के फ़र्क़ में उलझा हुआ था मैं,तुमने बिछड़के मौत का चेहरा दिखा दिया।।आने वाले हैं शिकारी मेरे गांव मेंजनता है चिंता की मारी मेरे गांव मेंफिर वही चौराहे होंगे प्यासी आंख उठाए होंगेसपनों भींगी रातें होंगी, मीठी-मीठी बातें होंगीमालाएं पहनानी होगी, फिर ताली बजवानी होगीदिन को रात कहा जाएगा, दो को सात कहा जाएगाआने वाले हैं मदारी मेरे गांव में, जनता है चिंता की मारी मेरे गांव में आने वाले हैं शिकारी मेरे गांव मेंजनता है चिंता की मारी मेरे गांव में। 

jnu

कोरोना को लेकर जेएनयू में बने खास नियम, जानें किन नियमों का करना होगा पालन

12 April 2021

दिल्ली में कोरोना के मामले में बढ़ते जा रहे हैं, ऐसे में कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में इससे रोकने का प्रयास किया जा रहा है। देश में बढ़ते कोरोना के बीच में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) प्रशासन ने भी परिसर में रात्रि कर्फ्यू लागू करने का आदेश जारी कर दिया है। विश्वविद्यालय की तरफ से रात्रि 10 बजे से सुबह पांच बजे तक सभी से छात्रावास व आवास में ही रहने के लिए कहा गया है। इसके अलावा छात्रों, शिक्षकों सहित अन्य कर्मचारियों को इसका सख्ती से पालन करने के भी निर्देश जारी किए गए हैं। विश्वविद्यालय की तरफ से कर्मचारियों और छात्रों के हित में काम किया जा रहा है।

ugc

यूजीसी की खास पहल आईआईटी की तर्ज पर विवि भी लेंगे पूर्व छात्रों से फंड

05 April 2021

विश्वविद्यालय में पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए भी बड़ी खुशखबरी है। अब उन्हें भी सरकार की तरफ से दिए जाने वाले फंड के लिए निर्भर रहने की जरूरत है। आईआईटी की तर्ज पर अब विश्वविद्यालय की तरफ से भी फंड के लिए सरकार पर निर्भर नहीं रहने की जरूरत है। अपना खर्चा चलाने के लिए विश्वविद्यालय पूर्व छात्रों से फंड लेंगे। पूर्व छात्रों को विश्वविद्यालयों के गवर्निंग बोर्ड में करेंगे। यही नहीं, विश्वविद्यालय की तरफ से पहली स्टूटेड करियर प्रग्रेशन एंड एल्यूमनाई नेटवर्क पालिसी 2021 सत्र से लागू हो रही है। इसमें पूर्व के छात्र से पैसे के साथ में उनके आइडिया से प्लेसमेंट, पाठ्यक्रम, परीक्षा से लेकर अन्य नीतियों में भी सुधार करने की तैयारी की जाएगी।

raebareli daughter pratima sharad

रायबरेली की बेटी ने काव्य प्रतियोगिता में मारी बाजी, पूरे देश में पाया पहला स्थान

03 April 2021

विश्व महिला दिवस के मौके पर बीते दिनों हिंदी अकादमी, मुंबई की तरफ से आयोजित की गई काव्य प्रतियोगिता में रायबरेली की बेटी ने बाजी मारी है। रायबरेली के राना नगर मोहल्ले में रहने वाले अशोक शरद की बेटी प्रतिमा शरद ने पहला मुकाम हासिल करके रायबरेली का नाम पूरे देश में ऊंचा किया है। हिंदी अकादमी मुंबई की तरफ से आयोजित कराई गई प्रतियोगिता का परिणाम 2 अप्रैल को घोषित किया गया है। इस प्रतियोगिता में पूरे देश से दर्जनों साहित्यकारों ने भाग लिया था। इसमें रायबरेली की प्रतिमा शरद ने भी प्रतिभाग किया था। 

pradhan

यूपी पंचायत चुनाव: आगरा के इस गांव में शिक्षित बहू बनेगी प्रधान, नहीं खड़ा होगा कोई प्रत्याशी

31 March 2021

उत्तर प्रदेश में चुनाव आयोग की तरफ से पंचायती चुनाव की आचार संहिता लागू किए जाने के बाद में चुनाव की सरगर्मी तेज हो गई है। उत्तर प्रदेश में पंचायती चुनाव को लेकर जगह-जगह पर इस समय गांव की सरकार को चुनने के लिए चर्चाओं का बाजार गर्म है। इसी बीच में उत्तर प्रदेश के आगरा जिले में बीहड़ इलाके के लोगों ने एक बड़ा कदम उठाया है। यहां पर एक ग्रामसभा के लोगों ने अपने गांव की पढ़ी लिखी महिला को सरकार चलाने के लिए चुन लिया है। अब यहां पर चुनाव नहीं होगा बल्कि आपसी फैसले के जरिए गांव का प्रधान चुन लिया गया है। आगरा जिले के जैतपुर क्षेत्र में यमुना के खादरों में बसे बड़ागांव के लोगों ने अपनी ग्रामसभा को विकास के पथ पर आगे बढ़ाने के लिए पोस्ट ग्रेजुएट बहू कल्पना को प्रधान चुनने का फैसला किया गया है।

pre primary schools in uttar pradesh

अब उत्तर प्रदेश में प्री प्राइमरी स्कूलों की मान्यता लेना होगा जरूरी

23 March 2021

अगर आप उत्तर प्रदेश में प्राइमरी स्कूल खोलना चाहते हैं तो फिर आपके लिए सुनहरा मौका आने वाला है। अब प्री और प्राइमरी स्कूलों के मानक के साथ में नए नियमों को बनाने की तैयारी चल रही है। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से स्कूलों को खोलने को लेकर नए नियम और कानून भी लागू करने की तैयारी की जा रही है। उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से प्री प्राइमरी स्कूलों के संचालन के लिए अब सरकार से मान्यता लेना जरूरी होगा। यही नहीं, अब सरकार की तरफ से एक खास नियम बनाए जाने की बात की गई है।

up cadre ias dr hariom

कैलाश मानसरोवर की यात्रा से रूबरू कराएगी IAS डॉ हरिओम की किताब

22 March 2021

'कैलाश मानसरोवर यात्रा: आस्था के वैचारिक आयाम’ मशहूर लेखक, गजल गायक और नामी IAS डॉक्टर हरिओम की ताजा किताब है। इस किताब के जरिए उन्होंने 'यात्रा-आख्यान' विधा में बहुत कुछ जोड़ा-तोड़ा हैं। एक साहित्यिक तीर्थयात्री के बतौर हरिओम के पास वह स्वस्थ और साकांक्ष दृष्टिकोण है जिससे वह 'तीर्थयात्रा' को भी एक रम्य-आख्यान में बदल देते हैं। उनकी दृष्टि खुली और आलोचनात्मक है जिसके कारण वे तीर्थों के भूगोल में फैले व्यवसाय और कुव्यवस्था को भी सामने लाते हैं। आस्था शंका और तर्क से परे होती है जहां चिंतन और वैचारिकी का पूर्णत: समर्पण होता है। शायद इसीलिए आस्थावान भक्त अपने परलोक की चिंता में इहलोक के असहनीय कष्ट को झेल लेते हैं। हरिओम इस यात्रा में धर्म, अध्यात्म आदि पर न सिर्फ तार्किक दृष्टि से विचार करते हैं बल्कि समाज-मनोवैज्ञानिक विश्लेषण भी करते चलते हैं। उनके भीतर यह चिंता भी कायम है कि कैसे धर्म के 'धुंध और पीलेपन ने हमारे देश के सुंदर परिवेश का रंग चुरा लिया है।'

teacher

उत्तर प्रदेश में 8वीं तक के किसी भी छात्र को नहीं किया जाएगा फेल

20 March 2021

कोरोना वायरस की वजह से इस बार यूपी के प्राथमिक स्कूलों का शैक्षिणक सत्र लगभग पूरी तरह से बाधित रहा है। इस बार महज एक ही महीने तक स्कूलों का संचालन हो सका है। स्कूलों का संचालन बेहतर तरीके से न होने की वजह से पढ़ाई भी बहुत बाधित हुई है। ऐसे में यहां पर पढ़ाई करने वाले छात्रों को खास मौका देने की तैयारी यूपी सरकार कर रही है। इस बार यूपी सरकार की तरफ से इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को फेल नहीं किया जाएगा। उन्हें इस बार बार प्रमोट कर दिया जाएगा। छात्रों की पढ़ाई बाधित होने की वजह से इस बार ये निर्णय लिया गया है। 

investment climate

यूपी सरकार के चार साल के कार्यकाल में बना निवेश का माहौल: दिनेश शर्मा

19 March 2021

यूपी सरकार के चार साल पूरे होने पर डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने यूपी की तस्वीर रखते हुए कहा कि अब प्रदेश में निवेश का बेहतर माहौल बन चुका है। अब उत्तर प्रदेश में शिक्षा का हाल बहुत ही सीधा हो गया है। इसके साथ ही बिजनेस के क्षेत्र में भी अब बेहतर माहौल बनाने की कोशिश हो रही है। उन्होंने कहा कि कभी अपराध के लिए विख्यात रहे यूपी का चेहरा अब बदल चुका है। अब प्रदेश निवेशकों के आकर्षण का केन्द्र बन चुका है। आज उत्तर प्रदेश ईज आफ डूईंग बिजनेस के मामले में दूसरे स्थान पर है। वर्तमान सरकार की नीतियां, अवस्थापना सुविधाओं का विकास निवेशकों को लुभा रही हैं। प्रदेश तेजी से एक ट्रिलियन इकोनॉमी बनने की ओर अग्रसर है।

सोसाइटी से

अन्य खबरें

Corona Positve

'हमें बीमारी से लड़ना है, बीमार से नहीं'

वनडे में क्लीन स्वीप के बाद न्यूजीलैंड ने टेस्ट के लिए घोषित की टीम

पढ़िए, क्यों राहुल की वजह से पीएम पद से इस्तीफा देना चाहते थे मनमोहन

पराली की समस्या का इन युवाओं ने ढूंढा हल, बना रहे यह सामान

अनुच्छेद 370 के बारे में वह सबकुछ जो आपके लिए जानना जरूरी है

सब्सक्राइब न्यूज़लेटर