सब्सक्राइब करें

पॉलिटिक्स

amit shah

झारखंड: बीजेपी-आजसू के बीच बनी यह बात, इस फॉर्मूले पर लड़ेंगे चुनाव

13 November 2019

झारखंड की लोहरदगा सीट के लिए बीजेपी और आजसू के बीच उपजे विवाद का आखिर हल पा लिया गया है। अब यहां पर दोनों ही दलों के बीच में गठबंधन की बात सुलझ गई है। सीट शेयरिंग को लेकर फंसा पेंच को दोनों ही दलों के वरिष्ठ नेताओं ने सुलझा लिया है। झारखंड में आजसू के हिस्से में 10 सीटें आई है। यही नहीं बीजेपी-आजसू दोनों ही दलों के बीच में तीन सीटों पर बीजेपी-आजसू में फ्रेंडली फाइट होगी। जिन सीटों पर फेंडली फाइट होगी उनमें लोहरदगा, चक्रधरपुर और चंदनकियारी सीटें है। जहां पर आजसू भी अपने उम्मीदवारों को उतारेगी। सीटों के बंटवारे को लेकर मंगलवार की रात को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो के बीच में बात हुई, जिसके बाद नये फॉर्मूले पर सहमति बन गई है। सीटों को लेकर बंटवारा होने के बाद सुदेश महतो ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इसका ऐलान कर सकते हैं। 

uddhav thackeray

महाराष्ट्र: सियासी ड्रामा का समझिए गणित, आखिर क्यों लगा राष्ट्रपति शासन

13 November 2019

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने के बाद भी अभी सियासी ड्रामा जारी है। भाजपा के मना करने के बाद शिवसेना ने सरकार बनाने का दावा राज्यपाल के सामने पेश किया, लेकिन अचानक बाजी उनके हाथों से निकल गई। कांग्रेस और एनसीपी ने शुरु में पत्ते नहीं खोले, जिसके चलते शिवसेना राज्य में सरकार बनाने में नाकाम रही। हालांकि अभी भी राज्य में शिवसेना सरकार बनने के लिए प्रयास कर रही है। इस घटनाक्रम पर अभी भी सबकी निगाहें अब कांग्रेस और एनसीपी पर है, आखिरकार उनके अगले कदम क्या होंगे। आइए, जानें यहां के सियासी घटनाक्रम पर दस बातें:

president rule

महाराष्ट्र में राज्यपाल ने की राष्ट्रपति शासन की सिफारिश, जानिए क्या हैं सियासी समीकरण

12 November 2019

महाराष्ट्र में सरकार बनाने की रार खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। भाजपा के सरकार बनाने से इंकार करने के बाद भी वहां दूसरे दल एकजुट नहीं हो पा रहे हैं। इस आपाधापी के बीच राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने राष्ट्रपति शासन लगाने की संस्तुति कर दी है। आपको बता दें कि इससे पहले राज्यपाल ने भाजपा, शिवसेना और राकांपा को संख्या बल बताने के लिए आमंत्रित किया था, लेकिन कोई भी बल बहुमत साबित नहीं कर सका, जिसके चलते राष्ट्रपति शासन की सरगरमी बढ़ गई है। राज्यपाल के राष्ट्रपति शासन की सिफारिश के बाद शिवसेना सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई है।

shiv sena bjp

कैबिनेट मंत्री अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, जानें शिवसेना की क्या है मजबूरी

11 November 2019

महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए प्रयास कर रही शिवसेना ने बीजेपी से वर्षों पुराना रिश्ता तोड़ दिया है। मोदी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे शिवसेना के मंत्री अरविंद सावंत ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। अरविंद सावंत के इस्तीफा देते ही बीजेपी और शिवसेना की दशकों पुरानी दोस्ती में रार आ गई है। बता दें एनसीपी और कांग्रेस ने शिवसेना के साथ गठबंधन करने से पहले यह शर्त रखी थी कि अगर गठबंधन बनाना है, तो शिवसेना को बीजेपी के साथ में गठबंधन तोड़ना होगा। शिवसेना ने उसी तरफ कदम बढ़ाया और एकमात्र केंद्रीय मंत्री अरविंद सावंत ने आज दोपहर में इस्तीफा दे दिया हैं। 

raghubar das

झारखंड: बीजेपी ने जातीय समीकरण का खेला कार्ड, 10 विधायकों के काटे टिकट

11 November 2019

झारखंड विधानसभा चुनाव को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने यहां पर उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। उम्मीदवारों की जारी पहली सूची में 5 महिलाओं को मौका दिया गया है और 12 नए चेहरों पर भरोसा भी जताया गया है। बीजेपी की तरफ से जारी पहली सूची में 17 एसटी, 6 एससी, 21 ओबीसी और 8 जनरल कैटेगरी को उम्मीदवार बनाया गया है। बीजेपी ने यहां की 81 सीटों में से 52 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी कर दी है। बीजेपी की तरफ से जारी की गई है पहली में मौजूदा 10 विधायकों का टिकट काट दिया गया है। बता दें इस समय बीजेपी के 40 विधायक है, इसमें से बीजेपी ने महज 30 विधायकों को ही टिकट दिया है। 

shard pawar

आखिर टूट गया शिवसेना-बीजेपी का 30 साल पुराना गठबंधन!

11 November 2019

महाराष्ट्र में सत्ता संघर्ष पर जारी घमासान पर विराम लगाते हुए शिवसेना ने राज्य में सरकार गठन की तैयारी कर ली है। इसी के साथ राज्य में बीजेपी और शिवसेना के बीच में 30 वर्षों से चला आ रहा गठबंधन टूटने की कगार पर पहुंच सुका है। राज्य में मुख्यमंत्री के पद पर सहमति नहीं बनने की वजह से शिवसेना और बीजेपी के रास्ते अलग-अलग हो गए है। सरकार बनाने के लिए शिवसेना ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) की शर्तों को मानते हुए केंद्र में बीजेपी सरकार के साथ में अपना गठबंधन तोड़ने का फैसला किया है। यही नहीं, मोदी सरकार में मंत्री बने शिवसेना के सांसद अरविंद सावंत ने सोमवार को इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया है। उन्होंने कहा कि आज सुबह 11 बजे वह सरकार में इस्तीफा दे सकते हैं। 

sharad pawar

महाराष्ट्र: शरद पवार ने कहा हमें विपक्ष में बैठने का मिला है जनादेश

06 November 2019

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर जारी अटकलों के दौर को एनसीपी चीफ शरद पवार ने विराम लगा दिया है। मुलाकातों के इस दौर के बीच में एनसीपी चीफ शरद पवार ने साफ कर दिया कि महाराष्ट्र की जनता ने उन्हें जिस भूमिका के लिए चुना है वो उसे निभाएंगे। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र की जनता ने लगातार दूसरी बार कांग्रेस-एनसीपी को विपक्ष की भूमिका के लिए चुना और वो हम निभाएंगे। 

ahmed patel

महाराष्ट्र: गडकरी से मिले अहमद पटेल, सत्ता को लेकर बड़ी सुगबुगाहट

06 November 2019

महाराष्ट्र में नई सरकार के गठन को लेकर जारी घमासान खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। 9 नवंबर तक राज्य में सरकार के गठन न होने पर राष्ट्रपति शासन लग जाएगा, तो वहीं राज्य में सबसे अधिक सीटें जीतने वाली भाजपा अभी तक राज्यपाल के दर पर नहीं पहुंची है। राज्यपाल से न मिलने की वजह उनकी सहयोगी पार्टी शिवसेना का इस बार साथ न खड़ा होना है। 50-50 फॉर्मूले को लेकर अभी तक शिवसेना और बीजेपी के बीच में बात नहीं बन पाई है। इसी बीच में खबर आ रही है मुख्यमंत्री के रूप में देवेंद्र फडणवीस दूसरी बार शपथ ले सकते हैं। लेकिन अगर शिवसेना ने बीजेपी को समर्थन नहीं दिया, तो वह विधानसभा में बहुमत स्पष्ट नहीं कर सकेंगे।

jharkhand assembly

झारखंड चुनाव: जनता की अदालत में 50 फीसदी विधायक चुनाव जाते हैं हार

05 November 2019

झारखंड में विधानसभा चुनाव का ऐलान होने के बाद यहां पर राजनीतिक पार्टियों ने की जंग जीतने के लिए बिसात बिछाना शुरू कर दी है। सियासी समीकरण सेट करने में जुटी हुई पार्टियां यहां पर पिछले चुनावी रिकॉर्ड को देखते हुए इस बार रणनीति बदलने जा रही है। यही नहीं अभी हाल ही में हुए चुनाव में परिणाम को देखते हुए बीजेपी ने रणनीति पूरी बदल दी है। यहां पर पिछले चुनावों का रिकॉर्ड खराब देखते हुए विधायकों को पार्टी टिकट नहीं देने के मुड में है। झारखंड में 50 फीसदी से ज्यादा विधायक और मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ता है। वह लोग अपनी सीट नहीं बचा पाते हैं और उन्हें हार का मुंह देखना पड़ता है। ऐसे में बीजेपी अपने मौजूद विधायकों का टिकट काटकर नए चेहरों पर दांव खेल की तैयारी कर रही है।

sudesh mahto

झारखंड: सीट बंटवारे को लेकर आजसू नाराज, बीजेपी से नहीं बनी बात

05 November 2019

महाराष्ट्र में जारी सत्ता संघर्ष को देखते हुए अब झारखंड में आजसू गठबंधन की तस्वीर पहले ही साफ करना चाहती है। यहां पर अभी तक विधानसभा चुनाव को लेकर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन (आजसू) के बीच में सीट शेयरिंग नहीं हो पाई है। अभी तक सीट शेयरिंग न होने की वजह से आजसू ने बीजेपी को गठबंधन तोड़ने के संकेत दिए है। 30 नवंबर से शुरू होने जा रहे पहले चरण के मतदान को देखते हुए पार्टी ने ठोस संकेत देते हुए कहा कि पार्टी इस बार 2014 वाले फॉर्मूले को मानने को तैयार नहीं है। कुछ दिन पहले ही प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ ने 2019 चुनाव के लिए 2014 के सीट शेयरिंग वाले फॉर्मूले की वकालत की थी। आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो ने कहा, अब राज्य में स्थिति काफी बदल चुकी है। इस बार चुनाव में पार्टी मजबूती के साथ चुनाव लड़ने जा रही है।  

सोसाइटी से

अन्य खबरें

पराली की समस्या का इन युवाओं ने ढूंढा हल, बना रहे यह सामान

अनुच्छेद 370 के बारे में वह सबकुछ जो आपके लिए जानना जरूरी है

सुषमा स्वराज का निधन, अचानक मृत्यु से पूरे देश में उठी शोक की लहर

झारखंड: बीजेपी-आजसू के बीच बनी यह बात, इस फॉर्मूले पर लड़ेंगे चुनाव

जानिए कैसे ले सकते हैं मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना का पूरा लाभ

सब्सक्राइब न्यूज़लेटर