सब्सक्राइब करें

मेरी कहानी

harish_kumar online classes

ऑनलाइन क्लासेज के नेटवर्क लिए हर रोज पहाड़ी पर चढ़ता ये लड़का, पढ़ें पूरी कहानी

25 July 2020

कोरोना (Corona Virus) ने लोगों की पूरी जिंदगी बदल दी है, उनके रहन-सहन का तरीका बदला है, आदतें बदली हैं। काम और पढ़ाई का तरीका भी बदला। स्कूल बंद होने की वजह से ऑनलाइन पढ़ाई (Online) शुरू हुई। ऑफिस जाने वालों ने वर्क ऑफ होम का अपनाया। अब इसके फायदे तो हैं लेकिन कुछ नुकसान भी हैं। नुकसान ये कि कई ऐसी जगहें हैं जहां नेटवर्क इतना अच्छा नहीं होता। शहर में भले बच्चे ऑनलाइन क्लासेज (online classes) कर पाएं क्योंकि वहां बेहतर नेटवर्क है, सुविधाएं हैं लेकिन गांवों में ये मुश्किल है। राजस्थान के बाड़मेर जिले के सातवीं कक्षा के हरीश को इन्हीं मुश्किलों का सामना करना पड़ता है लेकिन हरीश की लगन और मेहनत देखकर क्रिकेटर वीरेन्द्र सहवाग (Virendra Sahwaag) भी उनके फैन हो गए। हरीश के गांव में नेटवर्क नहीं आता और इसलिए वो रोज घर से दूर एक पहाड़ पर चढ़ते हैं जिससे उन्हें नेटवर्क मिल सके और क्लासेज कर सकें। हरीश अपनी ऑनलाइन क्लासेज (Online class) करके ही नीचे आते हैं। उनकी इस लगन को देखकर क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने भी उनकी तारीफ की। उन्होंने ट्विटर (twitter) पर हरीश की तस्वीर शेयर करके मदद की इच्छा भी जाहिर की है। 

ajay sharma rajasthan farmer

राजस्थान के इस किसान से सीखिए जमीन न होने पर भी कैसे करें सब्जियों की खेती

16 June 2020

कई बार हमें खेती करने का शौक होता है लेकिन हम जमीन न होने के कारण अपना मन मारके रह जाते हैं। लेकिन ये जरूरी नहीं है कि अगर आपके पास जमीन नहीं है तो आप अपना ये शौक नहीं पूरा कर सकते।राजस्थान (Rajasthan) के भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा में रहने वाले अजय शर्मा ने पिछले तीन वर्षों में अपने घर की छत को ही अपना किचन गार्डन बना दिया है। जमीन न होने की वजह से वो अपनी छत पर ऑर्गेनिक फार्मिंग (Organic farming) कर रहे हैं। इसकी सबसे महत्वपूर्ण बात ये है कि इसे घर में बेकार पड़ी चीजों से तैयार किया जाता है। अजय ने कूलर ट्रे, थर्माकोल और घर के बेकार पड़े बर्तनों का इस्तेमाल करके छत को ऐसा तैयार किया है कि वहां अब हर तरह की सब्जियां उगाई जा सकती हैं। शाहपुरा के सेटेलाइट हॉस्पिटल में नर्सिंग ऑफिसर के पद पर काम कर रहे अजय अपनी छत पर एक सीजन में आठ से ज्यादा तरह की  अलग-अलग ऑर्गेनिक सब्जियां (Organic vegetables)  उगाते हैं। खास बात ये है कि इसके लिए उन्हें पैसे खर्च करने की भी जरूरत नहीं होती है।

सीडीएस ने नियुक्ति का दिया पहला आदेश, लेफ्टिनेंट जनरल एसके सैनी बने उपसेना प्रमुख

18 January 2020

सीडीएस बनने के बाद पहली बार सीडीसी जनरल बिपिन रावत ने पहली बार खास आदेश जारी किया है। आज सीडीसी जनरल विपिन रातव की अध्यक्षता वाली कमेटी ने सैन्य मामलों के विभाग के माध्यम से वरिष्ठ सैन्य को नियुक्ति का पहला आदेश जारी किया है। आज जारी आदेश के अनुसार दक्षिण सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एसके सैनी को 25 जनवरी को नए उप सेना प्रमुख के रूप में कार्यभार संभालेंगे। यह पद जनरल मनोज मुकुंद नरवणे के सेना प्रमुख बनने के बाद से खाली चल रहा था, जिस पर अब नियुक्ति दी गई है। 

 harbhajans

खुद पैसा कमाने की चाह में 90 साल की दादी ने 'बेसन की बर्फी' बनाकर शुरू किया स्टार्टअप

15 January 2020

मां और बेटी का रिश्ता बेहद प्यारा होता है और ये खूबसूरत कहानी उन सभी बेटियों के लिए एक प्रेरणा है, जो अपनी मांओं की इच्छा पूरी करने के लिए पूरी कोशिश लगा देती हैं। 90 साल की हरभजन कौर अपनी बेटी रवीना सूरी के साथ बैठकर जिंदगी के बारे में बात कर रही हैं। इस दिलचस्प बातचीत के दौरान रवीना अपनी मां से पूछती हैं कि क्या इस पूरी जिंदगी में उन्हें किसी बात का पछतावा रहेगा कि काश मैं ये कर पाई होती। इस पर हरभजन का जवाब था कि मुझे जीवन में ऐसे तो सबकुछ मिला लेकिन मुझे इस बात का मलाल रहेगा कि मैंने पूरी जिंदगी में कभी खुद कोई पैसे नहीं कमाएं। हरभजन कौर अमृतसर के नज़दीक तरन-तारन में जन्‍मी थी। शादी के बाद अमृतसर, लुधियाना रही और करीब दस साल पहले पति की मौत के बाद वे कुछ समय से अपनी बेटी के साथ चंडीगढ़ में रहने लगी। रवीना ने जब आगे मां से पूछा आप कैसे पैसे कमाना चाहती हैं, वो पैसा, कुछ सोचा है क्या? इसपर हरभजन ने जब अपना बिजनेस प्लान बताया तो रवीना का गला जैसे भर आया हो। मां ने कहा मैं बेसन की बर्फी बना सकती हूं। धीमी आंच पर भुने बेसन की मेरे हाथ की बर्फी के खरीददार भी मिल जाएंगे।भले ही ये बात हरभजन के लिए वहीं खत्म हो गई हो लेकिन रवीना के लिए यहां से एक नई शुरुआत होने वाली थी। रवीना अपनी मां की इस एक इच्छा को पूरी करना चाहती थीं और यहीं से शुरुआत हुई एक नए सफर की। 

28वें सेना प्रमुख बने ले. जनरल नरवणे, चीन मामलों पर है मजबूत पकड़

31 December 2019

भारतीय थलसेना के प्रमुख रहे जनरल बिपिन रावत आज सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उनके सेवानिवृत्त होते ही थलेसना को नया मुखिया मिल गया है। आज थलसेना अध्यक्ष के रूप में लेफ्टिनेंट जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने कमान संभाली। जनरल बिपिन रावत का आज तीन साल बाद सेना प्रमुख के पद से सेवानिवृत्त हुए है और देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) नियुक्त किए गए हैं। जनरल मनोज नरवणे देश के 28वें सेना प्रमुख हैं। अभी तक मनोज मुकुंद नरवणे आर्मी के उप प्रमुख थे। आज आर्मी चीफ बनते ही वे दुनिया की सबसे ताकतवर सेनाओं में शामिल 13 लाख थल सैनिकों के मुखिया बन गए हैं। अभी तक लेफ्टिनेंट जनरल नरवणे इस्टर्न कमांड के प्रमुख थे। इस्टर्न कमांड वह है जो कि भारत-चीन की 4000 किलोमीटर लंबी सीमा की देखभाल करती है। 

police commissionar vc sajjnar,

हैदराबाद कांड: 'एनकाउंटर मैन' के रूप में मशहूर हैं साइबराबाद के पुलिस कमिश्नर सज्जनार

06 December 2019

हैदराबाद में वेटरनरी डॉक्टर के रेप और मर्डर के आरोपियों को आज सुबह एनकाउंटर में मार गिराया गया है। तेलगांना पुलिस ने शुक्रवार की तड़के एनकाउंटर करके मार गिराया। वेटरनरी डॉक्टर की हत्या और रेप के आरोपियों का एनकाउंटर होने के बाद जहां तेलगांना पुलिस की तारीफ की जा रही है, तो वहीं सवाल भी उठ रहे हैं। इस मामले में सोशल मीडिया पर हीरो बने एनकाउंटर के बाद साइबराबाद पुलिस कमिश्नर सज्जनार है। सोशल मीडिया पर छाए सज्जनार को एनकाउंटर मैन के नाम से भी जाने जाते हैं। बता दें, तेलंगाना के वारंगल में इससे 11 साल पहले जब एक कॉलेज गर्ल पर तेजाब से हमला कर दिया गया था, तब भी वहां पर काफी विवाद हुआ था। उस मामले में भी उनकी ही अगुवाई में तीन आरोपियों का एनकाउंटर करके ढेर कर दिया गया था। इस मामले में छात्रा के घर पर मिलने के लिए काफी लोग पहुंचें थे। 

indian navys first woman

बिहार की बेटी शिवांगी आज बनीं नौसेना की पहली महिला पायलट

02 December 2019

कहते है अगर हौसला हो तो आसमान में भी छेद क‍िया जा सकता है। जी हां कुछ ऐसा ही बिहार की बेटी लेफ्टिनेंट शिवांगी साबित करने जा रही है। जी हां आज का दिन भारतीय नौसेना के लिए भी ऐतिहासिकक होने जा रहा है। 4 दिसंबर को होने वाले नौसेना दिवस से महज दो दिन पहले ही 2 दिसंबर यानी आज लेफ्ट‍िनेंट शिवांगी भारतीय नौसेना की पहली महिला पायलट के रूप में नौसेना के अभियानों में शामिल होने जा रही हैं। 

air marshal rakesh kumar singh bhadauria became new air force chief

जानें कौन हैं राकेश भदौरिया, वायुसेना चीफ बनाने की क्या रही वजह

20 September 2019

वायुसेना के एयर मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया अब देश के नए वायुसेना चीफ होंगे। सरकार ने उनके नाम की घोषणा कर दी है। नए चीफ 30 सितम्बर को सेवानिवृत्त हो रहे एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ का स्थान लेंगे। देश के नए वायुसेना चीफ एयर मार्शल राकेश कुमार सिंह भदौरिया इस समय वाइस चीफ ऑफ द एयर स्टाफ हैं। राकेश भदौरिया ही राफेल फाइटर जेट को उड़ाने वाले देश के पहले वायुसेना पायलट हैं। उन्होंने इसी साल इसी वर्ष 12 जुलाई को फ्रांस के मोंटे डे मार्सन एयर बेस से राफेल उड़ाया था।

2.5 किलोमीटर तैरकर प्रतियोगिता में हिस्सा लेने पहुंचे मुक्केबाज ने जीता मेडल

12 August 2019

अगर दिल में कुछ कर गुजरने का जुनून हो तो हर मुश्किल छोटी पड़ जाती है। शायद यही वजह है कि मजबूत इरादों और बुलंद हौसलों के आगे किस्मत भी झुक जाती है। कुछ ऐसा ही हुआ कर्नाटक के इस मुक्केबाज के साथ। प्रदेश में आई बढ़ा के बाद आसपास की सड़कें क्षतिग्रस्त हो गईं। इसके बाद भी इस होनहार ने हार नहीं मानी और बेंगलुरु में आयोजित होने वाली राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में हिस्सा के लिए ढाई किलोमीटर की बाधा तैरकर पार कर ली। उसके बाद वहां से ट्रेन पकड़ी और बेंगलुरु पहुंच गया। वहां न सिर्फ प्रतियोगिता में पहुंचा बल्कि मेडल भी जीता।

68 साल में 6 पासपोर्ट की मदद से नाप दिए 65 देश, ये है सुधा माहालिंगम की कहानी

03 August 2019

सुधा महालिंगम को आज भी उनकी मां की वह सीख याद है, जब बचपन में मां ने उन्हें कहा था कि अगर तुम समुद्र में नहाना चाहती हो, तो लहरों के थमने का इंतजार मत करो। समुद्र में उस वक्त उतरो, जब लहरें आपसे टकराती हैं। ठीक वैसे ही जैसे कि आप पूरी दुनिया घूमने का सपना देखते हो। इस सपने को उस वक्त पूरा करो जब तुम्हारे पास और भी काम हों, जब तुम मां बन जाओ या फिर जब तुम्हारे पास और भी दूसरी जिम्मेदारी हों क्योंकि घूमने के लिए सही समय का इंतजार नहीं किया जाता। चेन्नई की रहने वाली लड़की सुधा मां की बात इतनी ध्यान से क्यों सुन रही थी्, शायद वह खुद भी नहीं जानती थी। पर शायद यह मां की सीख का ही नतीजा है कि आज सुधा महालिंगम 68 साल की उम्र में 6 पासपोर्ट के साथ 65 देशों की यात्रा कर चुकी हैं।

सोसाइटी से

अन्य खबरें

Corona Positve

'हमें बीमारी से लड़ना है, बीमार से नहीं'

वनडे में क्लीन स्वीप के बाद न्यूजीलैंड ने टेस्ट के लिए घोषित की टीम

पढ़िए, क्यों राहुल की वजह से पीएम पद से इस्तीफा देना चाहते थे मनमोहन

पराली की समस्या का इन युवाओं ने ढूंढा हल, बना रहे यह सामान

अनुच्छेद 370 के बारे में वह सबकुछ जो आपके लिए जानना जरूरी है

सब्सक्राइब न्यूज़लेटर