उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) इसी कोरोना काल (Coronavirus) में 20 सितंबर को आरओ/एआरओ 2016 की परीक्षा (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) कराने जा रहा है। आयोग (UPPSC) की तरफ से आज इस परीक्षा के एडमिट कार्ड जारी कर दिए गए हें। आयोग की तरफ से जारी किए गए एडमिट परीक्षा से महज 9 दिन पहले ही जारी किए गए हैं। आयोग पहले यह परीक्षा (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) 13 सितंबर को आयोजित कराने वाला था लेकिन नीट सहित अन्य परीक्षाओं के होने की वजह से स्थगित कर दिया था। अब आगामी 20 सितंबर को 17 जिलों में होने वाली इस परीक्षा (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) में इस बार निगेटिव मार्किंग रहेगी। आयोग की तरफ से आज जारी किए गए एडमिट कार्ड में साफ कहा गया है कि इसमें गलत प्रश्नों के उत्तर देने पर दंड अर्थात् नंबरों की कटौती की जाएगी। इस तरह से पिछले काफी दिनों से निगेटिव मार्किंग को लेकर चल रही असंमजस्य की स्थिति साफ हो गई है।बता दें, आयोग (UPPSC) की तरफ से समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी (सामान्य/विशेष चयन) प्रारंभिक परीक्षा 2016 (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) की परीक्षा जब वर्ष 2016 में आयोजित की गई थी तब निगेटिव मार्किंग नहीं थी। यही नहीं, उस दौरान आयोग की तरफ से आयोजित कराई जाने वाली परीक्षाओं में माइनस मार्किंग का खौफ भी नहीं रहता था। अब बदले निजाम के बाद में आयोग ने अपनी सभी परीक्षाओं में निगेटिव मार्किंग शुरू कर दी है, इसकी वजह से इस परीक्षा (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) में भी निगेटिव मार्किंग रहेगी। आयोग की तरफ से भले ही निगेटिव मार्किंग कर दी गई है, लेकिन अब अभ्यर्थी इस मुद्दे को लेकर कोर्ट जा सकते हैं। बता दें, जब यह भर्ती निकाली गई थी उस समय निगेटिक मार्किंग नहीं होती थी, लेकिन अब आयोग की तरफ से निगेटिव मार्किंग कर दी गई है। ऐसे में अब अभ्यर्थी इस मुद्दे पर न्याय पाने के लिए कोर्ट का सहारा ले सकते हैं। 

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग ने वर्ष 2016 में सचिवालय में समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी (सामान्य/विशेष चयन) भर्ती 2016 (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) की अधिसूचना सितंबर 2016 में जारी की थी। आयोग की तरफ से इस वर्ष कुल 361 पदों पर भर्ती की जानी थी। इन पदों पर चयन की प्रक्रिया के अंतर्गत प्रारंभिक परीक्षा का आयोजन 27 नवंबर 2016 को किया गया था। लेकिन परीक्षा में धांधली का आरोप लगाते हुए आईपीएस अनुराग ठाकुर ने एफआईआर दर्ज कराई थी। उनकी तरफ से केस में पैरवी किए जाने की वजह से इस साल जनवरी में इस परीक्षा (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) को आयोग ने रद्द कर दिया था। प्रारंभिक परीक्षा रद्द होने के बाद इससे (UPPSC RO/ARO Prelims 2016)कराने की तारीख तीन मई तय की गई थी, लेकिन कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से तिथि में बदलाव कर दिया गया था। कैंलेडर में इस परीक्षा को कराने की तारीख 13 सितंबर 2020 तय की गई थी, लेकिन आयोग की तरफ से यह तारीख भी रद्द करके 20 सितंबर को कराए जाना तय किया गया था। 

अभ्यर्थियों ने अपनी सुविधा के हिसाब से किया जिलों का चयन

आयोग  (UPPSC) की तरफ से वर्ष 2016 में निकाली गई इस परीक्षा के रद्द होने के बाद अब इसका आयोजन 20 सितंबर को होने वाला है। इस समय कोरोना वायरस (Coronavirus) का प्रकोप बढ़ रहा है। ऐसे में अब यूपीपीएससी  (UPPSC) ने  आरओ /एआरओ के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों को प्रारंभिक परीक्षा के लिए अपनी सुविधानुसार परीक्षा केंद्र के हिसाब से तीन जिलों का चुनाव करने की बात कहीं थी। 

आयोग ने उम्मीदवारों को अपनी सुविधा के हिसाब से विद्यालयों का चयन करने के लिए कहा था। आज आयोग के हिसाब से उम्मीदवारों की तरफ से तय किए गए तीन जिलों के हिसाब से ही प्रवेश पत्र जारी किए गए हैं। इस परीक्षा (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) के उम्मीदवारों को अपनी सुविधा के हिसाब से जिलों का चयन करने के लिए 25 अगस्त तक का समय दिया गया था। 

 उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग  (UPPSC) की तरफ से समीक्षा अधिकारी और सहायक समीक्षा अधिकारी (सामान्य/विशेष चयन) प्रारंभिक परीक्षा 2016 (UPPSC RO/ARO Prelims 2016) का आयोजन प्रदेश के 17 जिलों में किया जाएगा। आयोग ने आगरा, अयोध्या, आजमगढ़, बाराबंकी, बरेली, गाजियाबाद, गोरखपुर, जौनपुर, लखनऊ, मथुरा, मेरठ, झांसी, कानपुर नगर, मुरादाबाद, प्रयागराज, रायबरेली और वाराणसी जिलों में इस परीक्षा को कराने का निर्णय लिया है।

Zeen is a next generation WordPress theme. It’s powerful, beautifully designed and comes with everything you need to engage your visitors and increase conversions.