सब्सक्राइब करें

टेक्नोलॉजी

अब अल्जाइमर नहीं बनेगी भूलने की वजह, IIT गुवाहाटी ने की बड़ी खोज

22 May 2020

भारत (India) में अल्जाइमर (Alzheimer) के मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। मरीजों (Alzheimer) की संख्या में लगातार हो रहे इजाफे को देखते हुए आईआईटी गुवाहटी (IIT Guwahati) के वैज्ञानिकों ने एक बड़ा शोध किया है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) गुवाहाटी (IIT Guwahati) के शोधकर्ताओं ने अल्जाइमर (Alzheimer) की वजह से थोड़े ही समय के लिए जाने वाली याददाश्त को रोकने या कम करने के लिए नया तरीका विकसित करने का दावा किया है। आईआईटी (IIT) की तरफ से ऐसा कहा जा रहा है कि अल्जाइमर रोग (Alzheimer) से जुड़ी भूलने की आदत को रोकने या कम करने में इससे बहुत ही जल्द मदद मिलेगी। 

ISRO की बड़ी उपलब्धि, पृथ्वी पर बनाई चंद्रमा की सतह

21 May 2020

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के बारे में हम सभी जानते हैं। अंतरिक्ष के क्षेत्र में नए कीर्तिमान स्थापित करने वाली देश की इकलौती सरकारी संस्था के कामों की चर्चा पूरी दुनिया में होती है। इसरो ने एक बार फिर देशवासियों को खुद पर गर्व करने का मौका दिया है। दरअसल भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी (Indian Space Agency) ने चांद की सतह पर पाई जाने वाली मिट्टी को धरती पर बनाया है, जिसे अब इसका पेटेंट भी मिल चुका है।

Corona Virus: विदेशी किट को टक्कर देगी स्वदेशी 'एलीसा किट', महज ढाई घंटे में होगी 90 जांच

18 May 2020

कोविड-19 (Covid-19) की जांच को लेकर देश में बहुत बड़ा परिवर्तन आने वाले समय में देखने को मिलेगा। देश में  (Coronavirus) मरीजों की लगातार बढ़ रही संख्या की वजह से अब जांच में तेजी आने वाली है। भारत ने अपना पहला स्वदेशी जांच किट (Corona Kawach Elisa) तैयार कर लिया है। स्वास्थ्य मंत्रालय  (Health Minister Harsh Vardhan) की रिपोर्ट के अनुसार आने वाले समय में पहला स्वदेशी एलीसा (एंजाइम-लिंक्ड इम्यूनोसॉरबेंट परख) (Corona Kawach Elisa) परीक्षण किट से जांच की जाएगी। पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) ने कोरोना वायरस एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए किट (Elisa Test Kit) का सफलतापूर्वक परीक्षण कर लिया है। इस कीट से मानव शरीर में कोरोना वायरस  (Coronavirus)  के एंटीबॉडी ((Antibody Elisa Test Kit) की मौजूदगी का पता लगेगा। 

corona virus vaccine on monkeys

Corona virus: बंदरों पर सफल हुआ वैक्सीन का परीक्षण अब इंसानों पर प्रयोग शुरू

16 May 2020

कोरोना वायरस (Corona virus) का कहर पूरी दुनिया में सिर चढ़कर बोल रहा है। सभी देश इस महामारी की वजह से परेशान हैं। दुनियाभर के वैज्ञानिक और शोधकर्ता लगातार इसकी वैक्सीन (Vaccine) और दवाई बनाने के काम में जुटे हुए हैं। कई देशों से इस मामले में अच्छी खबरें भी सामने आ रही हैं। फिलहाल पूरी दुनिया में कोरोना वायरस से बचने के लिए लॉकडाउन (Lockdown) का प्रयोग किया जा रहा है। इस महामारी को लेकर एक अच्छी खबर ये है कि वैज्ञानिकों ने अपने प्रयोग में इसकी वैक्सीन को बंदरों पर कारगर पाया है। अब इसका प्रयोग इंसानों पर शुरू हो गया है।

Sanitizing Spray Machine

भेल-आईआईटी रुड़की का कमाल, कोरोना से लड़ाई के लिए बनाईं ये मशीन

12 May 2020

कोरोना वायरस (Corona Virus) की महामारी (Pandemic) तेजी से फैल रही है। इसका सबसे बड़ा कारण कोविड-19 (Covid-19) वायरस है, जो एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे में पहुंच जाता है। ये हवा, कपड़े, मोबाइल और नोट पर भी काफी लंबे समय तक जिंदा रह सकता है। इससे बचाव के तरीकों में हाथों और चीजों को सैनिटाइज करना शामिल है। सरकारें भी मोहल्लों और शहरों को लगातार सैनिटाइज करा रही हैं। अब देश के दो प्रमुख संस्थानों भेल (BHEL) और आईआईटी रुड़की (IIT Roorkee) ने सैनिटाइजिंग स्प्रे मशीन व स्टेरलाइजेशन सिस्टम का निर्माण किया है। जिसमें भेल (BHEL) की मशीन एक घंटे में लगभग 10 किलोमीटर क्षेत्र को सैनिटाइज कर सकती है।

DRDO ने विकसित की खास तकनीक, अब मोबाइल-करेंसी भी किए जा सकेंगे सैनिटाइज

12 May 2020

देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) का लगातार खतरा बढ़ता ही जा रहा है। देश में हजारों की संख्या में प्रतिदिन मरीज मिल रहे हैं। मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा होने की वजह से लोगों में इस बीमारी को लेकर लगातार भय बढ़ता ही जा रहा है। कोरोना वायरस (Coronavirus) की चपेट में सबसे ज्यादा मुंबई (Mumbai), अहमदाबाद (Aahmdabad)  , चेन्नई और दिल्ली (Delhi) जैसे शहर हैं। यहां पर मरीजों (Coronavirus) की संख्या एक ही दिन में काफी बढ़ रही है।

india made its first testing kit

भारत की बड़ी सफलता, बनाई पहली स्वदेशी कोविड एंटीबॉडी टेस्टिंग किट

11 May 2020

कोरोना (Corona) को लेकर पूरी दुनिया प्रयोगों में लगी है। वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए टेस्टिंग की बड़ी भूमिका है। भारत के तमाम वैज्ञानिक और संस्थान इस वायरस की टेस्टिंग किट बनाने में लगातार लगे हैं। कई दिनों की मेहनत के बाद अब भारतीय वैज्ञानिकों के हाथ एक बड़ी सफलता लगी है। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वॉयरोलोजी, पुणे ने सफलतापूर्वक देश की पहली SARS-CoV-2, एलिसा किट (IgG ELISA) टेस्टिंग किट को तैयार किया है। इस बात की जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन (Dr Harshwardhan) ने दी। उन्होंने बताया कि कोविड-19 की एंटीबॉडी को टेस्ट करने में यह किट अहम साबित हो सकती है। इस किट की मदद बड़ी संख्य़ा में टेस्ट किया जा सकता है।

आज के दिन ही पोखरण में परमाणु परीक्षण कर भारत ने रचा था इतिहास

11 May 2020

आजादी से पहले ही 1944 से परमाणु कार्यक्रम (Nuclear Test) की तैयारी करने वाले भारत को आखिरकार सफलता 1974 और 1998 में मिली थी। पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Bajpayee) के नेतृत्व में भारत ने इतिहास रचा था। आज ही के दिन 1998 में भारत ने राजस्थान के जैसलमेर के पास पोखरण में सफलतापूर्वक परमाणु परीक्षण (Pokhran Nuclear Test) किया गया था। पोखरण में ही 18 मई 1974 को भारत ने अपना पहला परमाणु परीक्षण (Pokhran Nuclear Test) किया। उस समय शांतिपूर्ण परीक्षण तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी (Indira Gandhi) के कार्यकाल में हुआ था। उनके नेतृत्व में किया गए परीक्षण (Nuclear Test) का नाम 'स्माइलिंग बुद्धा' (Smiling Buddha) रखा गया था। इसे पोखरण-I के नाम से भी जाना जाता है। वहीं, पोखरण-II पूर्व प्रधानमंत्री स्व. श्री अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Bajpayee) के नेतृत्व में किया गया था। 

कोरोना के लक्षण पहचानेंगे वियरेबल डिवाइस, जानें कैसे बन रहे मददगार

09 May 2020

कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा दुनियाभर में 40 लाख के पार पहुंच गया है। लाइलाज संक्रमण (Coronavirus) से बचने में लोग सिर्फ सावधानी रखकर ही अपनी जान बचा सकते हैं। इस बीमारी से लड़ने के लिए दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने कई डिवाइस का इनोवेशन किया है। इन्हीं कुछ ऐसे वियरबेल डिवाइस (Wearable Devices) जिनको बनाने की प्रक्रिया में तेजी ला दी गई है। इन डिवाइस (Wearable Devices) के जरिए ही कोरोना (Coronavirus) के लक्षणों को जल्दी पहचानने में मदद मिलेगी।

schedule tweets

Twitter यूजर्स के लिए खुशखबरी, अब आसानी से ट्वीट होंगे Schedule

08 May 2020

सूचना क्रांति में प्रमुख भूमिका निभा रहीं सोशल मीडिया साइट्स समय-समय पर अपने यूजर्स के लिए कई नए फीचर्स लेकर आती रहती हैं। इससे यूजर्स को फायदा तो मिलता ही है साथ ही ये सोशल मीडिया साइट्स भी यूजर फ्रेंडली हो जाती हैं। अब माइक्रो ब्लॉगिंग साइट (Microblogging Sites) ट्विटर (Twitter) अपने यूजर्स के लिए एक बेहद ही उपयोगी फीचर लेकर आई है। ट्विटर के यूजर्स अब अपने ट्वीट को शेड्यूल (Tweet Schedule) कर सकेंगे। ट्विटर (Twitter) ने ये फीचर्स रोल-आउट करना शुरू कर दिया है। हालांकि अभी कुछ यूजर्स ही ये फीचर का उपयोग कर सकेंगे, लेकिन जल्द ही कंपनी सभी के लिए ये फीचर जारी कर देगी। इसके साथ ही कुछ यूजर्स के लिए ट्वीट एडिट का फीचर भी जारी हो गया है।

सोसाइटी से

अन्य खबरें

new zealand team

वनडे में क्लीन स्वीप के बाद न्यूजीलैंड ने टेस्ट के लिए घोषित की टीम

पढ़िए, क्यों राहुल की वजह से पीएम पद से इस्तीफा देना चाहते थे मनमोहन

पराली की समस्या का इन युवाओं ने ढूंढा हल, बना रहे यह सामान

अनुच्छेद 370 के बारे में वह सबकुछ जो आपके लिए जानना जरूरी है

सुषमा स्वराज का निधन, अचानक मृत्यु से पूरे देश में उठी शोक की लहर

सब्सक्राइब न्यूज़लेटर