सब्सक्राइब करें

ज्योतिष एवं धर्मकर्म

Vaishno Devi

खत्म होगा इंतजार, इस तारीख से खुल सकते हैं वैष्णोदेवी के कपाट

05 August 2020

राम जन्मभूमि में भूमि पूजन के साथ ही श्रद्धालुओं के लिए एक और खुशखबरी आई है। अब माता के भक्तों का इंतजार खत्म होने वाला है। जम्मू कश्मीर के प्रशासन ने 16 अगस्त से राज्य के सभी धार्मिक स्थलों को खोलने का आदेश दे दिया है। उम्मीद है कि अब माता वैष्णोदेवी की यात्रा भी शुरू हो जाएगी।

Brahmastra

जानें सबसे तेज और प्रलयकारी 'ब्रह्मास्त्र' से जुड़े ये रहस्य

30 July 2020

आपने ब्रह्मास्त्र को लेकर कई बातें सुनी होंगी। रामायण या महाभारत सीरियल देखे होंगे तो आपको इसके बारे में जरूर याद होगा। कहते हैं कि प्रचीन काल में 5 ऐसे अस्त्र थे जो महाप्रलय ला सकते थे। इनमें सबसे पहले ब्रह्मास्त्र आता था, फिर नारायणास्त्र, पाशुपतास्त्र, वज्र और अंत में सुदर्शन चक्र। अगर आपके मन में भी ब्रह्मास्त्र के बारे में कुछ जानने को लेकर उत्सुकता है तो हम बताते हैं आपको इससे जुड़ी कुछ बातें...

shiv

सावन के सोमवार ही नहीं बुधवार भी शुभ फलदायी, करें ये उपाय

29 July 2020

मृदुल सिंह, ज्योतिषाचार्यसावन में सोमवार के महत्व के बारे में तो लाेग बहुत कुछ जानते हैं। आज हम चर्चा करेंगे बुधवार की। सावन में बुधवार का भी बड़ा महत्व है। सावन में सोमवार को ही नहीं, बल्कि बुधवार को भी शुभ फलदायी माना गया है।आप बुधवार को पूजा करके भी मनचाहे फल प्राप्त कर सकते हैं।

shivling

शिवलिंग से जुड़े 17 रोचक तथ्य, जानकर हैरान रह जाएंगे आप

25 July 2020

मृदुल सिंह, ज्योतिषाचार्यसावन का महीना चल रहा है और हर तरफ भोलेनाथ के जयकारे लग रहे हैं। इस पवित्र महीने में सनातन परंपरा को मानने वाला हर शख्स  शिवलिंग पर जल चढ़ाने जरूर जाता है। हम आपके लिए शिवलिंग, ज्योतिर्लिंगों से जुड़े 17 रोचक तथ्य खोजकर लाए हैं। इसको जरूर पढ़ें। शिवलिंग और रेडिएशन के बीच के संबंध, ज्योतिर्लिंगो का एक ही सीध में होना, शिवलिंग पर चढ़े जल को न लांघने जैसी परपंराओं के पीछे क्या मान्यताएं हैं, इसकी जानकारी आपको यहीं पर मिलेगी। इस आर्टिकल को आखिर तक जरूर पढ़ें।

astrology

सभी 12 राशियों की 15-15 खास बातें

23 July 2020

मृदुल सिंह, ज्योतिषाचार्यअपनी राशि को लेकर आपके मन में जितने भी सवाल होंगे, उसके जवाब आपको यहीं पर मिलेंगे। हम आपको राशि की गूढ़ बातों के अलावा, हर राशि के जातकों की 15-15 खास बातों की जानकारी भी देंगे।

बहुत खास हैं ये शिव मंदिर, सागर की लहरें करती हैं जलाभिषेक

13 July 2020

भारत में कई ऐसे शिव मंदिर हैं जहां सागर की लहरें शिवलिंग का जलाभिषेक करती हैं। दीव में गंगेश्वर महादेव के नाम से मशहूर शिव मंदिर में पांच शिवलिंग जहां सागर की लहरें इन शिवलिंगों से टकराकर उनका जलाभिषेक करते हुए लौटती हैं। ऐसा ही एक मंदिर गुजरात के भावनगर में भी है। यहां कोलियाक तट से तीन किलोमीटर अरब सागर में निष्कलंक महादेव का मंदिर है। इस मंदिर में भी सागर की लहरें शिवलिंग पर अपना जल अर्पित करती हैं। यहां लोग ज्वार के उतरने का इंतजार करते हैं और फिर दर्शन के लिए पैदल ही मंदिर के अंदर तक जाते हैं। कई बार तो ज्वार इतना तेज उठता है कि बस मंदिर की पताका और खम्भ ही दिखता है। 

लॉकडाउन में नहीं मिल पा रही पूजा की सामग्री तो मानस स्रोत से करें शिव की पूजा

11 July 2020

शिव मानस पूजा की रचना शंकराचार्य से शिव की स्तुति के लिए की थी इसलिए इसके विशेष महत्ता है। सावन के महीने में शिव मानस पूजा का स्रोत करने से दैहिक और मानिसक दोनों तरह के लाभ मिलते हैं। अगर इस बार लॉकडाउन की वजह से आपको पूजन सामग्री नहीं मिल पा रही है तो आप सिर्फ शिव मानस पूजा की स्तुति करके ही फल पा सकते हैं। पुराणों में भी शिव के इस स्तोत्र का वर्णन मिलता है। शिव मानस पूजा स्तोत्र में कुल मिलाकर 5 श्लोक है। मान्यता है कि इस स्तोत्र से शिव की आराधना करने से भक्त की हर मनोकामना पूरी होती है।

सावन में शिव के इन 108 नामों का करें जाप, इनका अर्थ भी जानें

08 July 2020

कहते हैं कि भगवान को आप सच्चे मन से जिस नाम से बुलाओ वे आपकी आवाज सुन ही लेते हैं। भगवान शिव के भी अनेक नाम प्रचलित हैं। कोई उन्हें शिव कहता है कोई शंकर, किसी के लिए वे महादेव हैं तो किसी के लिए भोले बाबा, कोई महेश्वर को पूजता है तो कोई शम्भू को। लेकिन कहते हैं कि सावन के महीने में शिव के 108 नामों का जप करना चाहिए। कहते हैं कि भोले को जब भी कोई भक्त पुकारता है तो वे उसकी पुकार को अनसुना नहीं करते। आप भी सावन में भगवान को प्रसन्न करने के लिए उनके इन नामों का जाप कर सकते हैं। यहां हम आपको उनके 108 नाम अर्थ के साथ बता रहे हैं। 

belpatra

सावन में भोलेनाथ को बेल पत्र चढ़ाने से पूरी होगी हर मनोकामना

08 July 2020

मृदुल सिंह, ज्योतिषाचार्यऐसी मान्यता है कि भगवान शिव को बिल्वपत्र बहुत प्रिय है। शिवजी की आराधना बिल्वपत्रों के बिना अधूरी है, लेकिन इसका आशय यह नहीं कि हम शिवजी को बिल्वपत्र अर्पण करने के आकांक्षा में बिल्व के वृक्षों को ही उजाड़ दें। अधिकांश लोग यह सोचकर अधिक मात्रा में बिल्वपत्र अर्पण करते हैं कि शायद इससे उन्हें शिवजी की अधिक कृपा प्राप्त होगी। यह एक भ्रान्त धारणा है, क्योंकि परमात्मा तो भावप्रधान होते हैं ना कि परिमाण प्रधान। पूर्ण प्रेमासिक्त और फ़लाकांक्षा रहित भाव से अर्पित किया गया एक छोटा बिल्व पत्र भी वह फ़ल दे सकता है जो फ़लाकांक्षा से अर्पित किए गए लाखों बिल्वपत्र नहीं दे सकते।

lord shiva

भोले को मनाएं, अपने सोए भाग्य को जगाएं

05 July 2020

मृदुल सिंह, ज्योतिषाचार्यसोमवार शिव पूजा के लिए सबसे उत्तम और शुभ माना जाता है। अगर कोई बेरोजगारी या व्यापार में घाटा जैसी समस्या से परेशान है तो सोमवार को किसी भी शिवालय में जाकर छोटा सा उपाय कर ले। कुछ ही दिनों में शिव जी की कृपा से सारी समस्याएं दूर होगी और हर कार्य में सफलता मिलने लगेगी।

सोसाइटी से

अन्य खबरें

Corona Positve

'हमें बीमारी से लड़ना है, बीमार से नहीं'

वनडे में क्लीन स्वीप के बाद न्यूजीलैंड ने टेस्ट के लिए घोषित की टीम

पढ़िए, क्यों राहुल की वजह से पीएम पद से इस्तीफा देना चाहते थे मनमोहन

पराली की समस्या का इन युवाओं ने ढूंढा हल, बना रहे यह सामान

अनुच्छेद 370 के बारे में वह सबकुछ जो आपके लिए जानना जरूरी है

सब्सक्राइब न्यूज़लेटर