इन दो मामलों की सुनवाई पर हाईकोर्ट ने 'तीन तलाक' को बताया असंवैधानिक

फोटो: Facebook

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मंगलवार को तीन तलाक के मामले पर एक ऐतिहासिक टिप्पणी करते हुए जो बात कही है वो इस परंपरा को सबसे बड़ी चुनौती है। जिसका दुष्परिणाम महिलाओं को भुगतना पड़ता है। कोर्ट ने भी माना कि तीन बार तलाक कहकर संबंध से छुटकारा, मुस्लिम महिलाओं के क्रूरता है। यकीनन तीन तलाक, समानता एवं भेदभाव विहीन समाज की संवैधानिक अवधारणा के मूल सिद्धांत और मानवता के भी खिलाफ है। बावजूद इसके बड़ा मुस्लिम तबका इसे स्वीकारता है।

आगे पढ़ें

कमेंट्स लिखें