रहने को घर नहीं मिला तो खोल दी घर खरीदने और बेचने वाली कंपनी

आईआईटी में रहने के दौरान तो वे हॉस्टल में मजे से रह रहे थे लेकिन अब तो बाहर रहना था। उन्होंने भी जोर-शोर से घर खोजना शुरू किया। उन्हें चारों तरफ दलालों और शोषकों का गठजोड़ दिखा। पैसे खर्च करने के बावजूद अच्छे घरों का टोटा दिखा।

आगे पढ़ें

कमेंट्स लिखें