क्या और क्यों हैं हम?

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने आजादी की लड़ाई के दौरान अहमदनगर जेल में एक किताब लिखी। भारत की खोज। आजादी मिली, हमने बेशुमार तरक्की भी की। सामाजिक बदलाव आया। चेतना भी बढ़ी। देश तमाम अच्छे-बुरे दौर से होकर गुजरा। आपातकाल का गवाह भी बना। औद्योगिक क्रांति आई। युद्ध भी हुए और कुछ अप्रिय घटनाएं भी पर लोकतंत्र और सह-अस्तित्व बरकरार रहा। लोकनायक जयप्रकाश नारायण, राम मनोहर लोहिया, इंदिरा गांधी, राजीव गांधी से लेकर अटल बिहारी बाजपेयी और नरेंद्र मोदी तक...देश को महान नेतृत्व मिला। आज देश एक सुनहरे और नाजुक मोड़ से होकर गुजर रहा है। एक तरफ मेक इन इंडिया, डिजिटल इंडिया, स्टार्टअप इंडिया और स्किल इंडिया की बयार है तो दूसरी तरफ बेतहाशा नकारात्मकता का माहौल। क्राइम, करप्शन और कंट्रोल के चंगुल में फंसे भारत की एक बार फिर खोज जरूरी है।

इंडियावेव इसी नए भारत की खोज है, जिमसें बेशुमार सकारात्मकता है। अतुल्य भारत के अद्भुत भारतीयों की अनोखी कहानियां हैं। कोशिशें हैं, कशमकश भी। इन्हीं कहानियों को खोजकर देशवासियों के सामने लाने का एक प्रयास है इंडियावेव।

उम्मीद है, सुनहरे वर्तमान की खोज और अतुल्य भविष्य के निर्माण की यात्रा में आप भी हमारे राहगीर बनेंगे।

जय हिंद। जय भारत।

संपादक
editor@indiawave.in



About Us


indiawave

क्या और क्यों हैं हम?

भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने आजादी की लड़ाई के दौरान अहमदनगर जेल में एक किताब लिखी। भारत की खोज। आजादी मिली, हमने बेशुमार तरक्की भी की। सामाजिक बदलाव आया। चेतना .... Read More